आज्ञाचक्र ध्‍यान अथवा अंतर त्राटक अथवा ध्‍यान साधना प्रयोग

जिसे हम ध्‍यान कहते है वो आज्ञा चक्र ध्‍यान ही है मगर इसको सीधे ही करना लगभग असम्‍भव है उसके लिये साधक को पहले त्राटक करना चाहिये और एकाग्रता हासिल होने पर ध्‍यान का अभ्‍यास आरम्‍भ करना चाहिये। इस त्राटक में हमकों अपनी आंख के अंदर दिखने वाले अंधेरे में नजर जमानी होती है मगर … Read more

5. मंत्र जप की सही विधि

मित्रों मंत्र जप से तो हम सभी परिचित हैं | किसी भी मंत्र को बार बार दोहराना या उच्चारण ही  मंत्र जप कहलाता है | हम सभी कभी न कभी, जाने अनजाने किसी न किसी समय पर मन्त्र का उच्चारण करते हैं | यही जप है | आज हम इसे और विस्तार से स्पस्ट करने … Read more

आनापानसति ध्यान प्रयोग पे कुछ जरूरी जानकारीयाँ

प्रारम्भ मे ध्यान का अभ्यास अँधेरे कमरे मे करे फिर अपनी सुविधा नुसार कुर्सी ,चटाई या कम्बल ,सोफे ,पलँग आदि कही भी बैठ सकते है आप को तन कर नही बैठना है , आराम से लेकिन रीढ़ की हड्डी सीधी रहे . क्योकि ध्यान हेतु आप के शरीर को कष्ट न हो ऐसे बैठे ,ध्यान … Read more

4. आनापानसति ध्यान विधि

आनापानसति ध्यान साधना (श्‍वास द्वारा ध्‍यान का अभ्‍यास) हमारे मन का ये स्‍वभाव है कि उसको हर समय विचार करने के लिये कुछ ना कुछ चाहिये। वो व्‍यर्थ ही दिन भर हजारों प्रकार के विचार करता रहता है। वो उन्‍ही चीजों पर सोचता है जिनको हम देखते सुनते है। इसके अलावा उन सब देखी सुनी … Read more

3. योग निद्रा की विधि

  योगनिद्रा लें और दिनभर तरोताजा रहे। निद्रा का मतलब आध्यात्मिक नींद। यह वह नींद है, जिसमें जागते हुए सोना है, सोने व जागने के बीच की स्थिति है। प्रारंभ में यह किसी योग विशेषज्ञ से सीखकर करें तो अधिक लाभ होगा। योगनिद्रा द्वारा शरीर व मस्तिष्क स्वस्थ रहते हैं। यह नींद की कमी को … Read more